हमें इ-मेल द्वारा फोल्लोव करें! और हज़ारो लोगो की तरह आप भी इस ब्लॉग को सीधे इ-मेल द्वारा पढ़े!

Sunday, 29 May 2011

अँधा प्रेम !!!

प्रेम,एक ऐसी दिव्य अनुभूति, जिससे सुन्दर,जिससे अलौकिक संसार में और कोई अनुभूति नहीं.जब यह ह्रदय में उमड़े तो फिर सम्पूर्ण सृष्टि रसमय सारयुक्त लगने लगती है.ह्रदय विस्तृत हो ब्रह्माण्ड में और ब्रह्माण्ड ह्रदय में समाहित हो जाता है. मन और कल्पनाएँ अगरु के सुवास से सुवासित और उस जैसी ही हल्की हो व्योम में धवल मेघों के परों पर सवार हो चहुँ ओर विचरने लगता है. मन तन से और तन मन से बेखबर हो जाता है. यह बेसुधी ही आनंद का आगार बन जाती है.पवन मादक सुगंध से मदमाने लगता है और मौन में संगीत भर जाता है. जीवन सार्थकता पाया लगता है..

मनुष्य ही क्या संसार में जीवित ऐसा कोई प्राणी नहीं, जो प्रेम की भाषा न समझता हो और इस दिव्य अनुभूति का अभिलाषी न हो . आज तक न जाने कितने पन्ने इस विषय पर रंगे गए परन्तु इसका आकर्षण ऐसा, इसमें रस ऐसा, कि न तो आज तक कोई इसे शब्दों में पूर्ण रूपेण बाँध पाया है और न असंख्यों बार विवेचित होने पर भी यह विषय पुराना पड़ा है.आज ही क्या, सृष्टि के आरम्भ से इसके अंतिम क्षण तक यह भाव,यह विषय, अपना शौष्ठव,अपना आकर्षण नहीं खोएगा, क्योंकि कहीं न कहीं यही तो इस श्रृष्टि का आधार है..

माना जाता है प्रेम सीमाएं नहीं मानता. यह तो अनंत आकाश सा असीम होता है और जो यह मन को अपने रंग में रंग जाए तो ह्रदय को नभ सा ही विस्तार दे जाता है.प्रेम का सर्वोच्च रूप ईश्वर और ईश्वर का दृश्य रूप प्रेम है..और ईश्वर क्या है ?? करुणा,प्रेम, परोपकार इत्यादि समस्त सद्गुणों का संघीभूत रूप. तो तात्पर्य हुआ जो हृहय प्रेम से परिपूर्ण होगा वहां क्रोध , लोभ , इर्ष्या, असहिष्णुता, हिंसा इत्यादि भावों के लिए कोई स्थान नहीं बचेगा. प्रेमी के ह्रदय में केवल ईश्वर स्वरुप सत का वास होगा और जहाँ सत हो, असत के लिए कोई स्थान ही कहाँ बचता है..

पर वास्तविकता के धरातल पर देखें, ऐसा सदैव होता है क्या ?? प्रेम पूर्णतया दैवीय गुण है,परन्तु इसके रहते भी व्यक्ति अपने उसी प्रेमाधार के प्रति शंकालु , ईर्ष्यालु , प्रतिस्पर्धी, स्वार्थी, कपटी,क्रोधी,अधीर होता ही है. तो क्या कहें ?? प्रेम का स्वरुप क्या माने ?? हम दिनानुदिन तो देखते हैं, प्रेम यदि ह्रदय को नभ सा विस्तार देता है तो छुद्रतम रूप से संकुचित भी कर देता है और कभी तो दुर्दांत अपराध तक करवा देता है. फिर क्या निश्चित करें ? क्या यह मानें कि प्रेम व्यक्ति की एक ऐसी मानसिक आवश्यकता है,जो अपने आधार से केवल सुख लेने में ही विश्वास रखता है, प्रेम के प्रतिदान का ही आकांक्षी होता है? प्रेमी उसकी प्रशंशा करे, उसपर तन मन धन न्योछावर कर दे, उसके अहम् और रुचियों को सर्वोपरि रखे, उसे अपना स्वत्व समर्पित कर दे,तब प्रेमी को लगे कि उसने सच्चे रूप से प्रेम पाया...क्या यह प्रेम है?

क्या इस भाव को जिसे अलंकृत और महिमामंडित कर इतना आकर्षक बना दिया गया है, वैयक्तिक स्वार्थ का पर्यायवाची नहीं ठहराया जा सकता ? एक प्रेमी चाहता क्या है? अपने प्रेमाधार का सम्पूर्ण समर्पण ,उसकी एकनिष्ठता,उसका पूरा ध्यान ,उसपर एकाधिकार, उसपर वर्चस्व या स्वामित्व, कुल मिलाकर उसका सर्वस्व. एक सतत सजग व्यापारी बन जाता है प्रेमी,जो व्यक्तिगत लाभ का लोभ कभी नहीं त्याग पाता. लेन देन के हिसाब में एक प्रेमी सा कुशल और कृपण तो एक बनिक भी नहीं हो पाता.हार और हानि कभी नहीं सह सकता और जहाँ यह स्थिति पहुंची नहीं कि तलवारें म्यान से बाहर निकल आतीं हैं..

प्रेम पाश में आबद्ध प्रेमी युगल प्रेम के प्रथम चरण में परस्पर एक दूसरे में सब कुछ आलौकिक देखता है.जो वास्तव में सामने वाले में रंचमात्र भी नहीं,वह भी परिकल्पित कर लेता है. सामने वाले में उसे रहस्य और सद्गुणों का अक्षय भण्डार दीखता है..युगल परस्पर एक दूसरे के गहन मन का एक एक कोना देख लेने,जान लेने और उसे आत्मसात कर लेने की सुखद यात्रा पर निकल पड़ते हैं. आरंभिक अवस्था में युगल एक दूसरे के लिए अत्यधिक उदार रहते हैं, प्रतिदान की प्रतिस्पर्धा लगी रहती है,जिसमे दोनों अपनी विजय पताका उन्नत रखना चाहते हैं, पर जैसे जैसे ह्रदय कोष्ठक की यह यात्रा संपन्न होती जाती है,कल्पनाओं का मुल्लम्मा उतरने लगता है,यथार्थ उतना सुन्दर ,उतना आकर्षक नहीं लगता फिर. रहस्य जैसे जैसे संक्षिप्तता पाता है,कल्पना के नील गगन में विचारने वाला मन यथार्थ के ठोस धरातल पर उतरने को बाध्य हो जाता है,जहाँ कंकड़ पत्थर कील कांटे सब हैं..इसे सहजता से स्वीकार करने को मन प्रस्तुत नहीं होता और तब आरम्भ होता है हिसाब किताब,कृपणता का दौर.

जो युगल एक दूसरे के लिए प्राण न्योछावर करने को आठों याम प्रस्तुत रहते थे, अपने इस प्रेम को जीवन की सबसे बड़ी भूल मानने लगते हैं,इस परिताप की आंच में जलते प्रेमी क्षोभ मिटाने को सामने वाले को अतिनिष्ठुर होकर दंडित करने लगते हैं और एक समय के बाद इस प्रेम पाश से मुक्ति को छटपटाने लगते हैं या फिर एक बार फिर से एक सच्चे प्रेम की खोज में निकल पड़ते हैं. कहाँ है प्रेम,किसे कहें प्रेम ?? इस युगल ने भी तो बादलों की सैर की थी तथा प्रेम के समस्त लक्ष्ण जिए थे और मान लिया था कि उनका यह प्रेम आलौकिक है.

अब एक और पक्ष -

प्रेम स्वतःस्फूर्त घटना है,जो किसे कब कहाँ किससे और कैसे हो जायेगा ,कोई नहीं कह सकता..इसपर किसी का जोर नहीं चलता और न ही यह कोई नियम बंधन मानता है.

अस्तु,

पचहत्तर हजार आबादी वाला एक गाँव, जिसमे पांच महीने में चौदह वर्ष से लेकर पचपन वर्ष तक के छः प्रेमी जोड़े अपना स्वप्निल संसार बसाने समाज के समस्त नियमों के जंजीर खंडित करते घर से भाग गए.यह आंकडा उक्त गाँव के स्थानीय पुलिस थाने में दर्ज हुए जिसे लोगों ने जाना. ऐसे कितने प्रकरण और हुए जिसे परिवार वालों ने लोक लाज के बहाने दबाने छिपाने का प्रयास किया,कहा नहीं जा सकता. इन छः जोड़ों में से तीन जोड़ा था ममेरे चचेरे भाई बहनों का,एक जोड़ा मामा भगिनी का, एक जोड़ा गुरु शिष्या का और एक जोड़ा जीजा साली का. निश्चित रूप से उसी अलौकिक प्रेम ने ही इन्हें कुछ भी सोचने समझने योग्य नहीं छोड़ा.यह केवल स्थान विशेष की घटना नहीं,विकट प्रेम की यह आंधी सब ओर बही हुई है जो अपने वेग से समस्त नैतिक मूल्यों को ध्वस्त करने को प्रतिबद्ध है...

तो फिर प्रेम तो प्रेम होता है,इसमें सही गलत कुछ नहीं होता,मान कर इन घटनाओं को सामाजिक स्वीकृति/मान्यता मिल जानी चाहिए क्या ?? यह यदि आज गंभीरता पूर्वक न विचारा गया तो संभवतः मनुष्य और पशु समाज में भेद करना कठिन हो जायेगा. शहरों महानगरों में गाँवों की तरह सख्त बंदिश नहीं होती और वहां परिवार तथा आस पड़ोस में ही प्रेम के आधार ढूंढ लेने की बाध्यता भी नहीं होती ,इसलिए वहां चचेरे ममेरे भाई बहनों में ही यह आधार नहीं तलाशा जाता..पर एक बार अपने आस पास दृष्टिपात किया जाय..आज जो कुछ यहाँ भी हो रहा है,सहज ही स्वीकार लेना चाहिए??

परंपरा आज की ही नहीं ,बहुत पुरातन है, पर आज बहुचर्चित है..यह है "आनर किलिंग". इसके समर्थक और विरोधी दोनों ही अपना अपना पक्ष लेकर मैदान में जोर शोर से कूद पड़े हैं.पर "आनर किलिंग" के नाम पर न तो डेंगू मच्छरों की तरह पकड़ पकड़ कर प्रेमियों का सफाया करने से समस्या का समाधान मिलेगा और न ही प्रेम को इस प्रकार अँधा मान कर बैठने से सामाजिक मूल्यों के विघटन को रोका जा सकेगा . आज आवश्यकता है व्यक्तिमात्र द्वारा व्यक्तिगत नैतिकता,सामाजिक मूल्यों की सीमा रेखाओं को सुदृढ़ करने की और प्रेम के सच्चे स्वरुप को पहचानने और समझने की.

समग्र रूप में जो प्रेम व्यक्ति के ह्रदय को नभ सा विस्तृत न बनाये,फलदायी सघन उस वृक्ष सा न बनाये जो अपने आस पास सबको फल और शीतल छांह देती है,जो व्यक्ति को सात्विक और उदार न बनाये,उसका नैतिक उत्थान न करे , वह प्रेम नहीं, प्रेम का भ्रम भर है. प्रेम अँधा नहीं होता,बल्कि उसकी तो हज़ार आँखें होती हैं जिनसे वह असंख्य हृदयों का दुःख देख सकता है और उनके सुख के उद्योग में अपना जीवन समर्पित कर सकता है..




*********


$

16 comments:

  1. क्या सधा लेख है ? सारे अप डॉउन बता दिये।

    सही है प्रेम का कोई नियम नही होता। ये जब होता है तो बस हो जाता है। मगर ज़रूरी तो नही कि इसकी परिणिति इस तरह हो। जैसा आपने बताया उस पचहत्तर हज़ार की आबादी वाले गाँव की।

    नियम टूटते जा रहे हैं। हमें जो पसंद आया हम उसके साथ हैं। हमे प्रेम हो गया। हमने अपना साथी छोड़ा ‌और हो लिये उसके साथ और उसने अपना साथी छोड़ा और हो लिया मेरे साथ। मगर उन साथियों का क्या जो हमारे ही थे। जिन्हे हमने अकेला छोड़ दिया। ये सोचती हूँ, तो सोच में पड़ जाती हँ।

    आज सुबह लिविंग रिलेशन की परिणिति सुन रही थी अपने कज़िन से। वो दोनो १५ साल से अपने घर नही गये। मैने कहा " जिसमें इतना बूता हो कि वो एक व्यक्ति के लिये माँ, बाप, भाई, बहन सबको छोड़ सके वो ही कर सकता है।"

    खैर मान लीजिये कि माँ बाप भाई बहन सब मान ही लेते हैं, तो मैं आने वाली पीढ़ी के सामने प्रस्तुत होने वाले आदर्श के प्रति अधिक चिंतित हूँ। १३ से २४ तक की वो उम्र जिसमें सब सही लगता है। उसे क्रॉस करते करते तो बहुत कुछ सामाजिक असंतुलन हो गया होगा। आने वालौ पीढ़ी, जिसके लिये लिविंग रिलेशन, छः माह में तलाक, सगे चचेरे सारे रिश्तों में जोड़ा ढूँढ़ना सब जायज़ ही हो जायेगा। उसमें सामाजि ढाँचा कैसा होगा ? और इतनी उच्छृंखलता के बाद समाज में कितनी कुंठाए जन्म लेंगी ?? ये सब जब सोचती हूँ, तो तेजी से आधुनिक मन को रोकने के अतिरिक्त कोई चारा नही पाती.....!!

    ReplyDelete
  2. सुंदर आलेख।
    ..प्रेम न जाने देश-धर्म, प्रेम न जाने समाज
    कल की फिकर करें ना प्रेमी उनका तो बस आज।
    ..आपके लेख को पढ़कर सहज उपजी ये पंक्तियाँ इस लेख की सार्थकता सिद्ध करने के लिए पर्याप्त है

    ReplyDelete
  3. इस सारे लेख में प्रेम की एक वि‍शि‍ष्‍ट प्रकृति‍ के बारे में लि‍खी जाने वाली एक पंक्‍ि‍त रह गई है- प्रेम को कि‍सी भी परि‍भाषा में नहीं बांधा जा सकता। और ये भी कि‍ उसके बारे में बहुत कुछ कह सुनकर भी बहुत कुछ बाकी रह जाता है। वो अचानक उतरता है और परवाह नहीं करता कि‍ आपकी पूर्व धारणाएं, समझ और मानक परि‍भाषाये क्‍या हैं

    ReplyDelete
  4. pyar par bahut kuchh parhta rahata hu, likhata bhi hu. par aapne kamal kar diyaa. har pahaloo par dil se likha hai....

    ReplyDelete
  5. प्रेम किसी अकिंचन अतिथि के रूप में हमारी जिंदगियों में प्रवेश करता है और हमारी स्व केंद्रित जीवनों को पूर्णतया बदल कर देता है और अधिकार जमाने की प्रवृति को मूक "अनकडीशनल समर्पण" की भाषा सिखा जाता है. बहुत सुंदर आलेख. आभार.
    सादर
    डोरोथी..

    ReplyDelete
  6. प्रेम पाश में आबद्ध प्रेमी युगल प्रेम के प्रथम चरण में परस्पर एक दूसरे में सब कुछ आलौकिक देखता है.जो वास्तव में सामने वाले में रंचमात्र भी नहीं,वह भी परिकल्पित कर लेता है.

    satya

    maine bhi kai charchayen padhi or suni owner killing par lekin kisi se sahmat nahi ho paya .

    aaj aapka lekh padhkar laga ki haan samaj mein aaj bhi aise buddhijiivi hai jo samaj ko sahi disha de sakte hai .
    you r one of them

    ReplyDelete
  7. is post ke taarif me likhne ke liye shabd to nahi, par sundar lekh

    ReplyDelete
  8. haan sach. duniya ki nazro se to mein bhi sochti hoon.
    vastavikta ye hai ki jo hai wao hamari wajah se hai
    apne aap kuch nahi hota

    ReplyDelete
  9. That is no reason to suppose that these basic principles - democracy, federalism, political parties, and
    collective political action -- might be extended someday to larger supranational levels as well?

    A Labour source added:" There are certain types of pornography that can only increase your feelings of helplessness. In the intense negotiations with the Lib Dems.

    Feel free to surf to my blog post ... incompetence - www.gov.uk,

    ReplyDelete
  10. 7guowenha0921
    puma outlet, http://www.pumaoutletonline.com/
    salomon shoes, http://www.salomonshoes.us.com/
    instyler, http://www.instylerionicstyler.com/
    cheap nba jerseys, http://www.nbajerseys.us.com/
    ysl outlet, http://www.ysloutletonline.com/
    coach outlet store, http://www.coachoutletonline-store.us.com/
    michael kors outlet online, http://www.michaelkorsoutletusa.net/
    nfl jersey wholesale, http://www.nfljerseys-wholesale.us.com/
    pandora outlet, http://www.pandorajewelryoutlet.us.com/
    atlanta falcons jersey, http://www.atlantafalconsjersey.us/
    boston celtics, http://www.celticsjersey.com/
    miami dolphins jerseys, http://www.miamidolphinsjersey.com/
    iphone 6 cases, http://www.iphonecase.name/
    cheap uggs, http://www.uggboot.com.co/
    gucci,borse gucci,gucci sito ufficiale,gucci outlet
    beats by dre, http://www.beats-headphones.in.net/
    oakley sunglasses, http://www.oakleysunglasses-wholesale.us.com/
    ralph lauren polo, http://www.ralphlaurenoutlet.in.net/
    lacoste pas cher, http://www.polo-lacoste-shirts.fr/
    jordan 13, http://www.airjordan13s.com/
    mbt shoes outlet, http://www.mbtshoesoutlet.us.com/
    louis vuitton handbags outlet, http://www.louisvuittonhandbag.us/
    true religion canada, http://www.truereligionjeanscanada.com/
    oakley canada, http://www.oakleysunglassescanada.com/
    jets jersey, http://www.newyorkjetsjersey.us/
    coach outlet store, http://www.coachoutletus.us/
    michael kors uk, http://www.michaelkorsoutlets.uk/
    cardinals jersey, http://www.arizonacardinalsjersey.us/

    ReplyDelete
  11. This comment has been removed by a blog administrator.

    ReplyDelete

इस पोस्ट पर कमेंट ज़रूर करे..
केवल नाम के साथ भी कमेंट किया जा सकता है..

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...
My facebook ID:Sumit Tomar