Wednesday, 3 August 2011

वक़्त और ज़िन्दगी





वक़्त ने कब ज़िन्दगी का साथ दिया हमेशा आगे ही चलता जाता है, और
ज़िन्दगी वक़्त कि परछाईं सी नज़र आती है।
वक़्त बहुत बेरहम है, अपनी परछाईं का साथ भी छोड़ देता है।
वक़्त का हर सितम ज़िन्दगी सहती जाती है मगर उफ़ भी नहीं कर सकती।

किसी के पास इतना वक़्त होता है कि काटना मुश्किल हो जाता है और किसी को इतना भी वक़्त नहीं होता कि अपने लिए भी कुछ वक़्त निकाल सके।
वाह! रे वक़्त के सितम। वक़्त ज़िन्दगी कव बहुत उलझाता है।

यह कैसा वक़्त आ गया जब ज़िन्दगी भी कुछ कह नहीं पाती,
और वक़्त के खामोश सितम भी सह नहीं पाती..
गर कुछ कहना भी चाहे तो सुनने वाला कोई नहीं,
यह कैसी बेबसी है , यह कैसी आरजू है..
वक़्त के सितम हंस के सहने को मजबूर,
ज़िन्दगी उदास राहों पर चलती जाती है..

काश! कोई दिखाये दिशा इस ज़िन्दगी को,वक़्त के साथ चलना सिखाये कोई जिन्दगी को..
खामोश राहें हैं खामोश डगर है ज़िन्दगी की,
वक़्त का साथ गर मिल जाये तो 
ज़िन्दगी के मायने बदल जाएँ..

11 comments:

  1. Waqt To hai hi balwaan iske aage kaha kisi ki chali hai

    ReplyDelete
  2. ji bilkul
    agar insan is duniya me kisi ka ghulam hai to wo hai waqt ka
    bohot khusurat peshkash sumit ji

    ReplyDelete
  3. वक़्त का साथ गर मिल जाये तो ज़िन्दगी के मायने बदल जाएँ..
    inhi shabdo se hi to vyakti ko categorize kiya ja sakta hai
    waqt ko apne vash me karne wala hi aaj safal hai

    ReplyDelete
  4. nice lines
    काश! कोई दिखाये दिशा इस ज़िन्दगी को,वक़्त के साथ चलना सिखाये कोई जिन्दगी को..
    खामोश राहें हैं खामोश डगर है ज़िन्दगी की,
    वक़्त का साथ गर मिल जाये तो ज़िन्दगी के मायने बदल जाएँ

    ReplyDelete
  5. देख कर वक़्त की रफ़्तार सहम जाते हैं,
    अपनी छोटी सी ज़िन्दगानी पर शरमाते हैं.

    इरादे कितने किये थे, बहुत कुछ करने के,
    कुछ न कर पाये, यह अहसास कर, पछताते हैं.

    बहारें आईं और चली गईं, पता न चला,
    ख़िज़ां के आने पर ना जाने क्यों घबराते हैं.

    कभी देखे थे यहां, ज़िन्दगी में ख़्वाब रंगीं,
    अब तो बस ख़्वाब में ही ज़िन्दगी को पाते हैं.

    तराने इश्क़ के गाये तो दर्द और बढ़ा,
    इसलिए हम ये सूफ़ियाने गीत गाते हैं.

    ReplyDelete
  6. WAQT aur HALAT dono insan ki zindagi mein kabhi ek jese nahi hote,
    WAQT insan ki zindgi badal deta hai,
    aur
    HALAT badalne mein waqt nahi lagta.

    ReplyDelete
  7. This comment has been removed by a blog administrator.

    ReplyDelete
  8. This comment has been removed by a blog administrator.

    ReplyDelete

इस पोस्ट पर कमेंट ज़रूर करे..
केवल नाम के साथ भी कमेंट किया जा सकता है..

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...
My facebook ID:Sumit Tomar