Sunday, 13 May 2012

"माँ" तू है, तो हम है...

"माँ" एक रिश्ता नहीं एक अहसास है,
भगवान मान लो या खुदा , खुद वो माँ के रूप में हमारे आस पास है..

इस एक शब्द में पूरे जीवन का सार समाया है,
जब भी रहा है दिल बैचेन मेरा , सुकून इसके आँचल तले ही पाया है ||

पलकें भीग जाती है पल में ......  "माँ" को जब भी याद किया है तन्हाई में,
जब भी पाया है खुद को मुश्किलों से घिरा, साथ दिखी है वो मुझे मेरी परछाई में ||

न जाने कौन सी मिट्टी से  "माँ" को बनाया है ऊपर वाले ने...
कि वो कभी थकती नहीं , कभी रूकती नहीं ,
उसे अपने बच्चों से कभी शिकायत नहीं होती ...
आसुओं का सैलाब है भीतर ,पर आँखों से वो कभी रोती नहीं ||

उसे टुकड़ा -टुकड़ा हो के भी , फिर से जुड़ना आता है,
अपने लिये कुछ किसी से, नहीं उससे माँगा जाता है ||

कितना भी लिखो इसके लिये कम है , सच है ये कि  "माँ" तू है, तो हम है ||


अपने जीवन की हर साँस से सिर्फ हमारे लिए खुशी माँगती माँ के लिए...
Happy Mother's Day...



मुझे चाहियें "माँ" के चेहरे पे सुकून के दो पल और उसके होटों पे मुस्कान |
करना चाहूँगा में कुछ ऐसा कि मेरे नाम से मिले मेरी माँ को पहचान | 

23 comments:

  1. मीनाक्षी सिंहSunday, May 13, 2012 9:38:00 am

    माँ तो माँ होती है
    किसी भी उम्र में
    सारा जहान होती है
    धरा पर इश्वर का स्थान होती है

    कोई इसके जाने पर भरपाई करे
    यह मुमकिन नहीं
    लाख मन को भरमा लें
    माँ आखिर माँ होती है

    ReplyDelete
  2. MAA....
    I can't discribe....
    VERY GOOD

    ReplyDelete
  3. अरुंधती आमड़ेकरSunday, May 13, 2012 9:52:00 am

    माँ को सब पता होता है जो हम बताते हैं वो भी और जो नहीं बताते वो भी। जैसे भगवान से कुछ नहीं छुपता वैसे ही माँ से कुछ नहीं छुपता। मैंने और शायद आपने भी इस सच्‍चाई को कई बार महसूस कि‍या होगा। माँ से छुपना आसान है लेकि‍न उससे छुपाना बेहद मुश्कि‍ल है। जन्‍म लेने के बाद खुद को जानने में हमारी जिंदगी नि‍कल जाती है लेकि‍न माँ तो हमें तब से जानती है जब हम अजन्‍मे होते हैं।

    ReplyDelete
  4. नीशी अग्रवालMonday, May 14, 2012 9:28:00 am

    'माँ' जिसकी कोई परिभाषा नहीं,
    जिसकी कोई सीमा नहीं,
    जो मेरे लिए भगवान से भी बढ़कर है
    जो मेरे दुख से दुखी हो जाती है
    और मेरी खुशी को अपना सबसे बड़ा सुख समझती है
    जिसकी छाया में मैं अपने आप को महफूज़
    समझती हूँ, जो मेरा आदर्श है
    जिसकी ममता और प्यार भरा आँचल मुझे
    दुनिया से सामना करने की ‍शक्ति देता है
    जो साया बनकर हर कदम पर
    मेरा साथ देती है
    चोट मुझे लगती है तो दर्द उसे होता है
    मेरी हर परीक्षा जैसे
    उसकी अपनी परीक्षा होती है
    माँ एक पल के लिए भी दूर होती है तो जैसे
    कहीं कोई अधूरापन सा लगता है
    हर पल एक सदी जैसा महसूस होता है
    वाकई माँ का कोई विस्तार नहीं
    मेरे लिए माँ से बढ़कर कुछ नहीं।

    ReplyDelete
  5. महेन्द्र तिवारीMonday, May 14, 2012 9:32:00 am

    रिश्तों की रवानगी इसमें
    ममता की हर बानगी इसमें

    चरणों में इसके सुख स्वर्ग का
    नसीब से मिलता है साथ इसका

    ईश्वर भी, जिसके आगे नतमस्तक
    इसके आगे फीकी कुदरत की हर नैमत

    आँचल इसका खुशियों की फुलवारी
    आनंद भरता इसकी गोद में किलकारी

    अपनों की फिक्र में बीतता इसका जीवन
    नहीं करती कभी खुद के लिए कोई जतन

    चाहते हो बनाना जिंदगी को अपनी चमन
    तो हर लम्हा करते रहो इसे विनम्र नमन।

    ReplyDelete
  6. i love you maa :(

    ReplyDelete
  7. Jeevan Ki Sabse pyari Hakikat hai.....Aur Jo Eswar Se Bhi badhkar Hai Wo Hai "MAA"
    " I LOVE YOU MAA"

    ReplyDelete
  8. This comment has been removed by the author.

    ReplyDelete

  9. जिसके होने से खुद को मुकम्मल मानता हूँ,
    खुदा के नाम पर मै सिर्फ माँ को जानता हूँ ।

    मेरे आँसू भी उसकी आँख से निकल जाते हैँ
    दुख के दरियाओँ का ऐसा समंदर जानता हूँ ।

    वो रोज़ रात को जागती है मेरे इंतज़ार मेँ,
    मैँ हूँ कि उसकी उम्र का तकाजा मानता हूँ ।

    तू है तो है दुनिया के लिए मेरी हस्ती का सबब,
    इसीलिए मैँ आज भी खुद को बच्चा मानता हूँ ।

    अभी तेरे बाद की दुनिया का मुझे अंदाज़ा नहीँ,
    नादान हूँ कि अभी तेरी कीमत नही जानता हूँ ।

    ReplyDelete
  10. जिंदगी बनाने के लिए, घर से दूर निकल आया हूँ,
    सपनो को पाने की चाहत में, अपनों को दूर छोड़ आया हूँ,

    सुख साधन कितने ही समेट लूं, मेरा घर आज भी याद आता है,
    चाहूं तो सारी दुनिया को नाप लूं, आखिर में माँ के हाथ का खाना याद आता है,

    बीमार जब होता हूँ तो इलाज तो मिल जाता है,
    पर जब दावा न काम आती तो माँ का दुलार याद आता है,

    अब तो बस कोसता हूँ अपने आप को, की क्या करने चला आया हूँ,
    जिंदगी बनाना चाहता था मैं और जिंदगी से ही दूर चला आया हूँ....

    ReplyDelete
  11. Hi Friends All Friends wants to earn money then Click on link and learn how to make money Here is Life Making Tips i hope your life will be sucessfull

    ReplyDelete
  12. Maa is alwys best in our life to any relative people.
    Maa is also good for all.

    ReplyDelete
  13. भटके हुए पग को राह दिखा दूँ
               मन से हारे को जीतना सीखा दूँ
    माँ ! नाज़ करो तुम मुझपर..
               चहुँ ओर ऐसा जज़्बा जगा दूँ ..!!

    Happiee mother's day *_*

    ReplyDelete
  14. भटके हुए पग को राह दिखा दूँ
               मन से हारे को जीतना सीखा दूँ
    माँ ! नाज़ करो तुम मुझपर..
               चहुँ ओर ऐसा जज़्बा जगा दूँ ..!!

    Happiee mother's day *_*

    ReplyDelete
  15. This comment has been removed by a blog administrator.

    ReplyDelete
  16. This comment has been removed by a blog administrator.

    ReplyDelete

इस पोस्ट पर कमेंट ज़रूर करे..
केवल नाम के साथ भी कमेंट किया जा सकता है..

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...
My facebook ID:Sumit Tomar